ताज़ा समाचार
अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को || "वर्दी वाले डिपार्टमेन्ट मे आऊँगा ये सोचा भी न था" - बी मारिया कुमार***** दुष्यंत कुमार संग्रहालय मे मारिया कुमार ने पलटे अतीत के पन्ने || दुष्यन्त संग्रहालय में वो दिन वो उजाले में जयन्त देशमुख ने याद किये गर्दिश के दिन **** सब कुछ होने के बाद भी अजीब सा खालीपन लगता है : जयन्त देशमुख || विश्व संग्रहालय दिवस पर दुष्यन्त संग्रहालय में शब्द-चित्र *********** वरिष्ठ रंगकर्मी हमीद मामू को अंजय तिवारी स्मृति सम्मान || वो दिन वो उजाले में इस बार सोमवार को श्री जयन्त देशमुख *********** दुष्यन्त संग्रहालय में सिनेमा और रंगमंच के संस्मरण साझा करेंगे जयन्त देशमुख ||

वो दिन वो उजाले में इस बार राजेश जोशी ने दुष्यन्त संग्रहालय में साझा किये अपने संस्मरण

वो दिन वो उजाले में इस बार राजेश जोशी ने दुष्यन्त संग्रहालय में साझा किये अपने संस्मरण
दो बार घर से भागा और अपहरण का किस्सा गढ़ा

    भोपाल। मैं दो बार घर से भागा। पहली बार तब, जब मैं हाईस्कूल में था। एक ही रेल चलती थी। किसी तरह टिकिट लिया और बम्बई चला गया। वहां बहन रहती थी। वहां जाकर फिर किस्सा गढ़ा कि हमारा किडनैप हो गया था और किसी तरह से भाग-भुग के यहां आ गये।-अपने अतीत की ये परतें खोली वरिष्ठ साहित्यकार श्री राजेश जोशी ने। वे दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय द्वारा आयोजित वो दिन वो उजाले श्रृंखला की चैथी कड़ी में अपनी यादें साझा का रहे थे।
    कार्यक्रम में राजेश जोशी के साथ मंच साझा किया वरिष्ठ गीतकार श्री शिवकुमार अर्चन ने। आरम्भ में संग्रहालय के निदेशक राजुरकर राज ने श्रृंखला पर प्रकाश डाला। स्वागत वक्तव्य श्री अशोक निर्मल ने दिया। आभार श्रीमती ममता तिवारी ने व्यक्त किया।
    श्री राजेश जोशी ने अपने अध्यापकीय जीवन से बैंक की नौकरी में आने की दिलचस्प दास्तान सुनाई, वहीं कविता से लेकर कहानी और अन्य विधाओं से जुड़ने के संस्मरण भी साझा किये। उन्होंने युवा संसार पत्रिका के प्रकाशन और उसके अनेक किस्से सुनाये। उन्होंने भगवत रावत, चंद्रकान्त देवताले, वेणुगोपाल, रामप्रकाश त्रिपाठी, लीलाधर मंडलोई, माताचरण मिश्र, ज्ञानरंजन, असगर वजाहत, अशोक वाजपेयी आदि के साथ जुड़ी यादें भी ताज़ा की।
    आयोजन में सर्वश्री ज़हीर कुरैशी, शशांक, महेन्द्र गगन, अशोक जैन भाभा, कुमार अम्बुज, शैलेन्द्र शैली, डाॅ. प्रज्ञा रावत सहित बड़ी संख्या में साहित्यकार उपस्थित थे। 
 

संग्रहालय अख़बारों में


अशोक निर्मल का अभिनंदन और रचना पाठ शुक्रवार को

"वर्दी वाले डिपार्टमेन्ट मे आऊँगा ये सोचा भी न था" - बी मारिया कुमार***** दुष्यंत कुमार संग्रहालय मे मारिया कुमार ने पलटे अतीत के पन्ने

दुष्यन्त संग्रहालय में वो दिन वो उजाले में जयन्त देशमुख ने याद किये गर्दिश के दिन **** सब कुछ होने के बाद भी अजीब सा खालीपन लगता है : जयन्त देशमुख

विश्व संग्रहालय दिवस पर दुष्यन्त संग्रहालय में शब्द-चित्र *********** वरिष्ठ रंगकर्मी हमीद मामू को अंजय तिवारी स्मृति सम्मान

वो दिन वो उजाले में इस बार सोमवार को श्री जयन्त देशमुख *********** दुष्यन्त संग्रहालय में सिनेमा और रंगमंच के संस्मरण साझा करेंगे जयन्त देशमुख

वो दिन वो उजाले में इस बार राजेश जोशी ने दुष्यन्त संग्रहालय में साझा किये अपने संस्मरण

दुष्यन्त संग्रहालय के वो दिन वो उजाले में इस रविवार श्री देवीसरन

वो दिन वो उजाले में इस बार राजेश जोशी ********* दुष्यन्त संग्रहालय में राजेश जोशी साझा करेंगे अपने संस्मरण

व्यंग्यकार श्री कृष्ण चराटे का निधन

विश्व पुस्तक दिवस पर शनिवार को आयोजन **** दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय में मेरी प्रिय पुस्तक पर व्याख्यान

उर्वशी सम्मान -2016

दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय ने दिए स्मृति सम्मान

दुष्यन्त कुमार ने मेरे रचनात्मक स्वभाव पर बहुत प्रभाव डाला है: मंजूर एहतेशाम

दुष्यन्त कुमार स्मारक व्याख्यानमाला से आरम्भ हुआ संग्रहालय का स्थापना पर्व

दुष्यन्त कुमार अलंकरण देश के ख्यातिनाम कथाकार उपन्यासकार श्री मंजू़र एहतेशाम को

दुष्यन्त कुमार स्मारक पांडुलिपि संग्रहालय में दिनकर स्मृति समारोह सम्पन्न

दुष्यन्त कुमार स्मारक पांडुलिपि संग्रहालय में मनगटे, मोहन और सुजाता लक्ष्मण प्रसाद मंडलोई स्मृति सम्मान से सम्मानित

दिनकर सोनवलकर स्मृति समारोह 7 नवंबर को भोपाल के दुष्यंत कुमार स्मारक पांडुलिपि संग्रहालय मे.

दिनकर सोनवलकर स्मृति समारोह 7 नवंबर को भोपाल के दुष्यंत कुमार स्मारक पांडुलिपि संग्रहालय मे.

पद्मश्री रामनारायण उपाद्ध्याय की लगेगी प्रतिमा
संग्रहालय भवन
एफ- 50/17, दक्षिण तात्या टोपे नगर, शरद जोशी मार्ग
भोपाल -462003
दूरभाष - 0755-2775129, 9425007710, 9479377110
Email-shabdashilpi@yahoo.com